February 24, 2024

आयुष्मान भारत के बाद मोदी सरकार का हेल्थ सेक्टर में एक और बड़ा फैसला

नई दिल्ली
मोदी सरकार की ओर से शुरू की गई आयुष्मान भारत योजना हेल्थ सेक्टर में एक बड़ा कदम साबित हुई। इसके तहत मोदी सरकार ने देश के करीब 50 करोड़ लोगों को 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा उपलब्ध कराया। अब मोदी सरकार आयुष्मान भारत के बाद हेल्थ सेक्टर में एक और बड़ा कदम उठाने जा रही है। केंद्र सरकार देश के हर जिले में ईएसआई अस्पताल की स्थापना करेगी। मोदी सरकार ने देश भर के कामगारों को सस्ता इलाज देने के लिए ये फैसला किया है। इसकी जानकारी मोदी सरकार में श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार ने दी। हर 20,000 कर्मचारियों के लिए 30 बेड का अस्पताल होगा

उन्होंने पूर्वी राज्यों के श्रम मंत्रियों और प्रधान सचिवों की एक बैठक को संबोधित करते हुए यह बात कही। उन्होंने बताया कि हर 20,000 कर्मचारियों के लिए 30 बेड का अस्पताल मौजूद होगा। गंगवार के मुताबिक अभी देश भर में 450 ईएसआई अस्पताल हैं और हर जिले में इस अस्पताल को पहुंचाने के लिए तमाम जरूरी कदम उठाए जाएंगे। गंगवार ने यह भी बताया कि जिन क्षेत्रों में 50,000 या उससे ज्यादा कामगार मौजूद हैं, वहां 100 बेड वाले अस्पताल स्थापित किए जाएंगे। उन्होंने ये भी कहा कि कर्मचारी राज्य बीमा निगम यानी ईएसआईसी कामगारों के कल्याण के लिए पूरी तरह काम कर रहा है और उसके लिए वह हर जरूरी कदम उठाएगा।

उन्होंने बताया कि मोदी सरकार इस बात को सुनिश्चित करेगी कि ईएसआई अस्पतालों में डॉक्टरों और पेरामेडिकल स्टाफ की कोई कमी न हो। इसके साथ ही इन अस्पतालों में हर मॉडर्न मेडिकल उपकरण मौजूद हो, इस बात की भी पुष्टि की जाएगी। कर्मचारी राज्य बीमा निगम यानी ईएसआईसी की स्थापना संसद से पारित कर्मचारी राज्य बीमा अधिनियम, 1948 के तहत की गई थी। इसकी स्थापना भारत में कामगारों की सामाजिक सुरक्षा के लिए की गई थी। यह श्रम एवं रोजगार मंत्रालय के अधीन आता है। इसके अंदर वो कर्मचारी आते हैं जिनकी आमदनी 21,000 रुपए प्रति महीने तक है। इसके तहत उन्हें स्वास्थ्य बीमा और दूसरे कई फायदे भी मिलते हैं।