February 22, 2024

इस्लामिक स्टेट ने अब्दुल्लाह कार्दश को चुना सरगना, सद्दाम के साथ किया था काम

दमिश्क
इस्लामिक स्टेट के सरगना अबू बकर-अल बगदादी के मारे जाने के बाद इस खूंखार आतंकी संगठन की कमान अब अब्दुल्लाह कार्दश के पास आ गई है। अमेरिकी रक्षा सूत्रों के मुताबिक कार्दश ने पूर्व इराकी तानाशाह सद्दाम हुसैन के मातहत सेना में काम किया था। न्यूजवीक की रिपोर्ट के मुताबिक कार्दश ने पहले से ही इस्लामिक स्टेट के कई मामलों को संभालना शुरू कर दिया था।

न्यूजवीक की रिपोर्ट के मुताबिक बगदादी किसी भी ऑपरेशन का हिस्सा नहीं होता था। वह सिर्फ मंजूरी देता था और लड़कों का ब्रेनवॉश करता था। लेकिन किसी भी तरह के आतंकी हमले को अंजाम देने में पूर्व सैन्य अधिकारी कार्दश की अहम भूमिका होती थी।

रिपोर्ट्स के मुताबिक इसी साल अगस्त में एक हवाई हमले में बगदादी घायल हो गया था। इसके बाद से ही उसने आतंकी संगठन की कमान अब्दुल्लाह कार्दश को सौंप दी थी। आतंकी सरगना डायबिटीज और हाई ब्लड प्रेशर से भी पीड़ित था।

ट्रंप ने कहा, बगदादी के उत्तराधिकारियों पर भी नजर
अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने बगदादी के मारे जाने का ऐलान करते हुए कहा, ‘हम उसके उत्तराधिकारियों के बारे में जानते हैं और उन पर हमारी नजर है।’ उन्होंने एक सवाल के जवाब में कहा, इस साल के शुरुआत में अमेरिकी सैनिकों ने अलकायदा सरगना ओसामा बिन लादेन के बेटे हमजा बिन लादेन को मार गिराया था।

'हमजा लादेन को मारने से यह बड़ी कामयाबी'
ट्रंप ने कहा, ‘हमजा बिन लादेन को मार गिराना बड़ी उपलब्धि थी लेकिन यह सबसे बड़ी उपलब्धि है। ओसामा बिन लादेन बहुत बड़ा आतंकवादी था लेकिन लादेन वर्ल्ड ट्रेड सेंटर पर हमले से बड़ा आतंकवादी बना था। वहीं इस व्यक्ति ने पूरे क्षेत्र पर कब्जा करके एक देश बना लिया था जिसे वह ‘खिलाफत’ कहता था और वह यह दोबारा करने का प्रयास कर रहा था।’

ट्रंप बोले, खौफनाक मौत मरा बगदादी
उन्होंने कहा, ‘मैंने बगदादी की सेहत के बारे में बहुत नहीं सुना था। मैंने सुना था कि उसकी सेहत ठीक नहीं थी