वारदात के दौरान ड्यूटी से गायब थे प्रहरी, अधीक्षक निलंबित

मुंगेली
छत्तीसगढ़ के मुंगेली (Mungeli) जिले में हुए जेल ब्रेक (Jail Break) के मामले में एक बड़ी कार्रवाई कर दी गई है. उपजेल अधीक्षक जेएल पुरैना को लापरवाही बरतने के कारण निलंबित कर दिया गया है. बता दें कि मुंगेली उपजेल से 25 अक्टूबर की आधी रात 4 कैदी बैरक का ताला तोड़ने के बाद जेल की दीवार फांदकर फरार हो गए थे. वारदात के बाद हंगामा होने के बाद तत्काल दो जेल प्रहरियों को निलंबित कर दिया गया था. कहा जा रहा है कि रायपुर (Raipur) से जेल एआईजी एसएस तिग्गा जांच के लिए मुंगेली उपजेल पहुंचे थे और उनके रिपोर्ट के आधार पर ये कार्रवाई की गई है.

मिली जानकारी के मुताबिक सीसीटीवी फुटेज में साफ दिखाई दे रहा है कि गंभीर अपराधों के ये कैदी जब फरार होने की घटना को अंजाम दे रहे थे, उस दौरान जेल में जिन कर्मियों की ड्यूटी लगाई गई थी वो सब गायब थे. इस वजह से शातिर अपराधियों ने इस वारदात को अंजाम दिया. वहीं वारदात के दो दिन बाद भी पुलिस के हाथ कोई सुराग नहीं लग सका है.

बता दें कि मुंगेली उपजेल की दीवार फांदकर शुक्रवार देर रात 4 कैदी जेल से भाग निकले थे. घटना की जानकारी लगते ही जेल प्रबंधन और पुलिस प्रशासन सकते में आ गया था. घटना की जानकारी मिलते ही एसपी सीडी टंडन जेलर जेएल पुरैना और तमाम पुलिस अधिकारी जेल पहुंचे थे. बताया जा रहा है कि सभी कैदी अलग-अलग मामलों में जेल में हंद थे. जानकारी के मुताबिक कैदियों ने पहले बैरक क्रमांक 3 का ताला तोड़ा, फिर जेल की ऊंची दीवार चादर और गमछे से रस्सी बनाकर फांदकर फरार हुए थे. पुलिस ने फरार कैदियों की फोटो भी जारी कर दी है. साथ ही सभी थानों में इनकी तस्वीरें भेज दी गई है.