महाकाल मंदिर में महिला श्रद्धालु की साड़ी में लगी आग, हाथ और पैर झुलसे

 उज्जैन
 सोमवार की सुबह श्री महाकालेश्वर मंदिर में ओंकारेश्वर मंदिर के पीछे स्थित मंदिर में दर्शन कर रही एक श्रद्धालु महिला की दीपक से साड़ी जल गई। साड़ी में आग लगने से महिला के हाथ और पैर झुलस गए। साड़ी में आग बुझाने के लिए महिला इधर-उधर भागने लगी। मंदिर के पुजारी ने आग बुझाने का प्रयास किया। महिला को जिला अस्पताल पहुंचाया गया।

सोमवार की सुबह राजस्थान के जयपुर से श्री महाकालेश्वर मंदिर में शोभाकुंवर पति हनुमानसिंह उम्र 45 वर्ष 6 लोगों के साथ दर्शनों के लिए आई थी। शोभाकुंवर ओंकारेश्वर मंदिर के पीछे स्थित त्रिविष्टेश्वर मंदिर के बाहर दर्शन कर रही थी। भगवान को प्रणाम करने के लिए झुकते समय मंदिर परिसर में शिवलिंग के निकट जल रहे दीपक से महिला की साड़ी ने आग पकड़ ली।

आग बुझाने के लिए महिला मंदिर परिसर में इधर-उधर भागने लगी। इस कारण साड़ी में आग तेजी से बढ़ने लगी। साड़ी में आग देखते ही पुजारी दिलीप गुरु ने आग बुझाने का प्रयास किया। समीप ही भद्रकाली मंदिर से कंबल लाकर महिला को ओढ़ाया गया। तत्काल एंबुलेंस की सहायता से महिला को जिला अस्पताल पहुंचाया गया। डाक्टरों का कहना है कि महिला के हाथ-पैर झुलस गए हैं।

घटना उस स्थान पर हुई, जहां से श्रद्धालु निर्गम गेट की ओर निकलते हैं। यह मार्ग संकरा है, जहां छोटे शिवलिंग विराजित हैं। यहां भक्त पूजन कर दीपक प्रज्ज्वलित कर देते हैं। सोमवार सुबह हुई घटना के दौरान भी आग बुझाने वाले यंत्र उपलब्ध नहीं हुए। मौके पर उपस्थित लोग अपने स्तर से आग बुझाने का प्रयास करते रहे।