आईएसएसएफ वर्ल्ड कप शूटिंग 20 से 27 मार्च तक भोपाल में

मुख्यमंत्री चौहान 21 मार्च को करेंगे शुभारंभ
चंदेरी स्टोल और गोंड पेंटिंग से होगा विदेशी मेहमानों का स्वागत

भोपाल

मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल फिर से अंतर्राष्ट्रीय स्पर्धा के आयोजन के लिए तैयार है। आगामी 20 से 27 मार्च तक भोपाल के बिसनखेड़ी स्थित मध्यप्रदेश राज्य शूटिंग अकादमी में आईएसएसएफ वर्ल्ड कप शूटिंग चेम्पियनशिप होगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान 21 मार्च को सुबह कुशाभाऊ ठाकरे सभागार में चेम्पियनशिप का शुभारंभ करेंगे। इसमें 33 देश के लगभग 325 शूटर और 75 से अधिक तकनीकी ऑफिशियल्स शामिल होंगे। मुख्यमंत्री चौहान वर्ल्ड कप के लिए तैयार की गई वातानुकूलित इंडोर शूटिंग रेंज का वर्चुअल उद्घाटन करेंगे। साथ ही मुख्यमंत्री नाथू बरखेड़ा में बन रहे अंतर्राष्ट्रीय स्पोर्टस कॉम्पलेक्स का भूमि-पूजन भी करेंगे। खेल और युवा कल्याण विभाग द्वारा विदेश से आये सभी खिलाड़ियों और ऑफिशियल्स को चंदेरी स्टोल और गोंड पेटिंग देकर सम्मानित किया जायेगा।

चेम्पियनशिप के शुभांरभ पर खेल और युवा कल्याण मंत्री श्रीमती यशोधरा राजे सिंधिया, आईएसएसएफ के अध्यक्ष लूसियानो रॉसी, महासचिव विली, एनआरएआई के अध्यक्ष रणिंदर सिंह, उपाध्यक्ष कलिकेश नारायण सिंह देव तथा महासचिव कुंवर सुल्तान सिंह उपस्थित रहेंगे।

देश का पहला इंडोर शूटिंग रेंज

यह चेम्पियनशिप मध्यप्रदेश सरकार और भारतीय रायफल महासंघ (NRAI) नई दिल्ली के तकनीकी सहयोग से हो रही है। भारत को इस विश्व कप का आयोजन आईएसएसएफ द्वारा सौंपा गया है। यह भारत में 8वाँ विश्व कप है। यह पहली अंतर्राष्ट्रीय प्रतियोगिता है जो नई दिल्ली के बाहर हो रही है। चेम्पियनशिप के लिए मध्यप्रदेश राज्य शूटिंग अकादमी में निर्धारित मानकों के अनुसार फाइनल रेंज का निर्माण किया गया है, जिसमें रायफल और पिस्टल के सभी इवेंट के फाइनल होंगे। 10 मीटर, 25 मीटर और 50 मीटर के फाइनल रेंज में अत्याधुनिक स्कोर बोर्ड और टारगेट स्थापित किये गये हैं। फाइनल रेंज में लगभग 375 दर्शकों की बैठक व्यवस्था है।

भारत सहित 33 देश होंगे शामिल

चेम्पियनशिप में 33 देश के खिलाड़ी भाग ले रहे है जिनमें अज़रबेजान, बांग्लादेश, बोसनिया और हरज़ेगोविना, ब्राजील, चायना, चेक रिपब्लिक, डेनमार्क, स्पेन, फ्रांस, ग्रेट ब्रिटेन, जर्मनी, हंगरी, इंडोने‍शिया, ईरान, इजराइल, जापान, कज़ाकिस्तान, किर्गिस्तान, कोरिया, साउदी अरेबिया, लिथवानिया, मालदीव, मेक्सिको, रोमानिया, सिंगापुर, सर्बिया, श्रीलंका, स्विटजरलैंड, स्वीडन, चायनीज ताईपे, अमेरिका और उज़बेकिस्तान शामिल है।