CBI ने पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा की गई अनियमितताओं पर नई FIR की दर्ज

नई दिल्ली
केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड (WBBPE) द्वारा प्राथमिक विद्यालय के शिक्षकों की भर्ती में अनियमितता के आरोप में एक नई प्राथमिकी दर्ज की है। मामला सरकारी स्कूलों में कथित अनियमितताओं से जुड़ा है जिसकी सीबीआई जांच कर रही है। एफआईआर के बारे में अधिक जानकारी की प्रतीक्षा है।

भट्टाचार्य को पिछले साल अक्टूबर में किया गया था गिरफ्तार
पश्चिम बंगाल में शिक्षकों की भर्ती के मनी लॉन्ड्रिंग अपराध में उनकी संलिप्तता और जांच में उनके निरंतर असहयोग के परिणामस्वरूप, ED ने WBBPE के पूर्व अध्यक्ष और तृणमूल कांग्रेस के विधायक माणिक भट्टाचार्य को पिछले साल अक्टूबर में गिरफ्तार किया था।
 

अबतक हुई 111 करोड़ रुपये की कुल जब्ती और कुर्की
पिछले साल दिसंबर में ईडी ने माणिक भट्टाचार्य और उनके परिवार के सदस्यों की 8 करोड़ रुपये की चल संपत्ति अस्थायी रूप से कुर्क की थी। जांच एजेंसी ने मामले के संबंध में 49.80 करोड़ रुपये से अधिक की नकदी, 5.08 करोड़ रुपये का सोना और आभूषण भी जब्त किए और 56.15 करोड़ रुपये की संपत्ति कुर्क की। कार्रवाई के बाद कुल जब्ती और कुर्की 111 करोड़ रुपये है।
 
इस मामले में ये सभी आरोपी हैं शामिल
आरोपियों में टीएमसी विधायक माणिक भट्टाचार्य शामिल हैं; उनकी पत्नी – सतरूपा भट्टाचार्य; उनके बेटे – सौविक भट्टाचार्य, जो पश्चिम बंगाल प्राथमिक शिक्षा बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष हैं और तापस कुमार मोंडल, जो एक शिक्षक प्रशिक्षण केंद्र के मालिक हैं और अन्य लोग शामिल हैं। चार्जशीट में जिन दो कंपनियों का नाम है, वे एक्यूरे कंसल्टेंसी सर्विसेज और एजुक्लासेस ऑनलाइन हैं। एजेंसी ने कहा कि मामले में आगे की जांच की जा रही है।