गर्ल्स हॉस्टल के मेस में लगी आग, छात्राएं बेहोश; गैस लीकेज से अगलगी पर बॉयज हॉस्टल के लड़कों ने किया काबू

बिहार
बिहार के लखीसराय में एक गर्ल्स हॉस्टल बर्निंग होम बनने से बाल बाल बच गया। हॉस्टल एक पारा मेडिकल कॉलेज का है। बॉयज हॉस्टल के लड़कों ने दिलेड़ी दिखाई और काफी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। इस बीच अफरातफरी में दो छात्राएं बेहोश हो गईं। गैस सिलेंडर में लीकेज से आग लगने की बात बताई जा रही है।

लखीसराय जिले के तेतरहट थाना क्षेत्र के नोनगढ़ स्थित पारा मेडिकल कॉलेज में शनिवार की रात उस वक्त अफरातफरी का माहौल बन गया, जब गर्ल्स हॉस्टल के कैंटीन में आग लग गई। खाना बनाने के दौरान आग लगने की बात सामने आ रही है।  कई सिलेंडर आग की चपेट में कई अन्य सिलेंडर भी आ गए जिन्हें काफी साहस दिखाते हुए निकाला गया। अगलगी की इस घटना में दो छात्राओं के बेहोश होने की भी बात सामने आ रही है।

हालांकि  छात्र- छात्राओं और कॉलेज कर्मियों के प्रयास के बाद आग पर पूरी तरह काबू पा लिया गया है। जानकारी के मुताबिक रोज की तरह शनिवार की शाम को भी पारा मेडिकल कॉलेज परिसर स्थित कैंटीन में छात्राओं के लिए भोजन तैयार किया जा रहा था। इसी दौरान कैंटीन में मौजूद सिलिंडर के लीक होने के कारण उसमें आग धधक गया। आग की लपटें इस कदर उठी कि पूरे कैंटीन में आग और धुआं फैल गया।

आग लगने की सूचना जैसे ही गर्ल्स हॉस्टल में फैली कि वहां अफरातफरी का माहौल हो गया। सभी छात्राएं हॉस्टल से बाहर निकलकर परिसर में जमा हो गईं। इस बीच कुछ छात्राओं व कॉलेज कर्मियों ने अलग-अलग माध्यमों से खुद के प्रयास से आग पर काबू पाने का भरसक प्रयास किया। करीब एक घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पा लिया गया।

अगलगी की इस घटना के बीच ब्वायज हॉस्टल के भी छात्र जुट गए और सभी छात्रों ने मिलकर तत्परता के साथ आग पर काबू पाया। इस बीच हॉस्टल की छात्राएं चींखती-चिल्लातीं दिखीं। घबराहट में दो छात्राओं के बेहोश होने की भी बात कही जा रही है। उन्हें इलाज के लिए सदर अस्पताल ले जाया गया। कॉलेज की ओर से अगलगी कांड की जांच की जा रही है।