डूबा Silicon Valley Bank बिक गया, क्या अब बच जाएगा लोगों का पैसा!

सिलिकॉन वैली

अमेरिकी सिलिकॉन वैली बैंक बिक गया है. इसे फर्स्ट सिटिजन्स बैंक ने खरीदा है. बीते कुछ दिनों से कयास लगाए जा रहे थे कि सिलिकॉन वैली बैंक को फर्स्ट सिटिजन्स बैंक खरीदने जा रहा है.ब्लूमबर्ग की रिपोर्ट के मुताबिक सिलिकॉन वैली बैंक का अधिग्रहण करने के लिए फेडरल डिपॉजिट इंश्योरेंस कॉर्प की फर्स्ट सिटिजन के साथ डील पक्की है. फर्स्ट सिटिजन्स के पास करीब 109 अरब डॉलर की असेट्स हैं और कुल डिपॉजिट अमाउंट 89.4 अरब डॉलर है.

सोमवार को, फेडरल डिपॉजिट इंश्योरेंस कॉरपोरेशन (FDIC) ने सिलिकन वैली ब्रिज बैंक डिपॉजिट और लोन के सभी डिपॉजिट और लोन के लिए फर्स्ट-सिटिजन्स बैंक एंड ट्रस्ट कंपनी के साथ डील फाइनल कर ली है.
10 मार्च तक इतनी बची थी संपति

10 मार्च, 2023 तक SVB के कुल असेट्स 167 बिलियन डॉलर थे और कुल डिपॉजिट अमाउंट लगभग 119 बिलियन डॉलर था. फर्स्ट सिटिजन्स बैंक के साथ ट्रांजेक्शन में 16.5 बिलियन डॉलर की छूट पर SVB NA की लगभग 72 बिलियन डॉलर की संपत्ति खरीदना शामिल है सिलिकॉन वैली ब्रिज बैंक, नेशनल एसोसिएशन के डिपॉजिटर अपने आप फर्स्ट सिटिजन्स बैंक और ट्रस्ट कंपनी के डिपॉजिटर्स बन जाएंगे. फर्स्ट सिटिजन्स बैंक एंड ट्रस्ट कंपनी द्वारा अपने हाथों में लिए सभी डिपॉजिट एफडीआईसी द्वारा इंश्योरेंस लिमिट तक इंश्योर्ड रहेंगे.

एक बयान में कहा गया है कि करीब 90 अरब डॉलर की सिक्योरिटीज और दूसरे असेट्स एफडीआईसी द्वारा डिपॉजिशन के लिए रिसीवरशिप में रहेंगी. इसके अलावा, एफडीआईसी को 500 मिलियन डॉलर तक के संभावित वैल्यू पर फर्स्ट सिटिजन्स बैंकशेयर, इंक., रैले, नॉर्थ कैरोलिना, कॉमन स्टॉक में इक्विटी राइट्स मिले हैं. FDIC का अनुमान है कि SVB के डिपॉजिट इंश्योरेंस फंड (DIF) फेल होने की कॉस्ट 20 बिलियन डॉलर है.

ग्राहकों के पैसे का क्या होगा

सिलकॉन वैली बैंक में सबसे ज्यादा पैसा स्टार्टअप्स का जमा है. जब से ये बैंकिंग संकट शुरू हुआ उसके बाद से स्टार्टअप्स लगातार अपना पैसा निकालने की मांग कर रहे हैं. अमेरिकी अथॉरिटीज यहां तक की सरकार ने भी भरोसा दिया कि उनका पैसा सेफ है. अब बैंक के बिकने के बाद उन निवेशकों को राहत जरुर मिलेगी जिनका पैसा अब तक इसमें फंसा हुआ है.