बैकफुट पर ममता बनर्जी, पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में हुए महिलाओं के कथित उत्पीड़न का मामला लगातार तूल पकड़ रहा है

नई दिल्ली
पश्चिम बंगाल के संदेशखाली में हुए महिलाओं के कथित उत्पीड़न का मामला लगातार तूल पकड़ रहा है। बीजेपी समेत राज्य के विपक्षी दल ममता सरकार पर हमला बोल रहे हैं। छह मार्च को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पश्चिम बंगाल के दौरे पर जाएंगे, जहां वे संदेशखाली की पीड़ित महिलाओं से मुलाकात करेंगे। संदेशखाली में बड़ी संख्या में महिलाओं ने तृणमूल कांग्रेस के कद्दावर नेता शाहजहां शेख और उसके समर्थकों पर जमीन हड़पने और यौन उत्पीड़न करने का आरोप लगाया है।

संदेशखाली मामले के सामने आने के बाद से ही बीजेपी, कांग्रेस और लेफ्ट के तमाम नेता घटनास्थल का दौरा करने की कोशिश कर रहे थे। हालांकि, बंगाल प्रशासन ने शुरुआत में नेताओं को संदेशखाली नहीं जाने दिया, जिसके बाद हाई कोर्ट की अनुमति लेने के बाद विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष शुभेंदु अधिकारी समेत बीजेपी के कुछ विधायक संदेशखाली पहुंचकर स्थानीय लोगों से मुलाकात की।

बीजेपी के पश्चिम बंगाल यूनिट के प्रमुख सुकांत मजूमदार ने बताया है कि प्रधानमंत्री मोदी छह मार्च को राज्य के उत्तर 24 परगना जिले के बारासात में महिलाओं की एक रैली को भी संबोधित कर सकते हैं। मजूमदार ने कहा, ''हमें आज पता चला कि प्रधानमंत्री छह मार्च को राज्य का दौरा करेंगे और बारासात में महिलाओं की एक रैली को संबोधित करेंगे।'' यह पूछे जाने पर कि क्या प्रधानमंत्री संदेशखाली की महिलाओं से मिलेंगे जो उत्तर 24 परगना जिले में ही स्थित है, मजूमदार से कहा, "अगर संदेशखाली की बहनें और माताएं प्रधानमंत्री मोदी से मिलना चाहती हैं तो हम निश्चित रूप से इसकी व्यवस्था करेंगे।"

संदेशखाली में सभी की शिकायत सुनेगी पुलिस: पुलिस महानिदेशक
उधर, पश्चिम बंगाल के पुलिस महानिदेशक राजीव कुमार का कहना है कि कि पुलिस संदेशखाली में हर व्यक्ति की शिकायत सुनेगी और दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। कुमार बुधवार को संदेशखाली गए थे और पश्चिम बंगाल के उत्तर 24 परगना जिले के अशांत क्षेत्रों की स्थिति का आकलन करने के लिए रात भर वहीं रुके थे, उन्होंने वहां महिलाओं पर अत्याचार करने के दोषी पाए जाने वालों के खिलाफ सख्त कार्रवाई का आश्वासन दिया। कुमार ने आज सुबह धमाखालि में संवाददाताओं से कहा ''हम प्रत्येक व्यक्ति की शिकायत सुनेंगे, अगर कोई घटना है तो हम दोषी पाए गए लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करेंगे और अगर लोग अत्याचार में शामिल पाए जाते हैं, तो हम उनके खिलाफ उचित कार्रवाई करेंगे।"