भारतीय छात्रा जाह्नवी को कार से टक्कर मारने वाले पुलिस अधिकारी पर ‘‘पर्याप्त” सबूतों के अभाव में कोई आपराधिक मुकदमा नहीं…

वाशिंगटन
 भारतीय छात्रा जाह्नवी कंडुला को कार से टक्कर मारने वाले सिएटल पुलिस के अधिकारी पर ‘‘पर्याप्त'' सबूतों के अभाव में कोई आपराधिक मुकदमा नहीं चलेगा। प्राधिकारियों के हवाले से ‘फॉक्स13 सिएटल'  ने बताया कि किंग काउंटी के अभियोजक कार्यालय से बुधवार को बताया कि वे सिएटल के पुलिस अधिकारी केविन डेव के खिलाफ आपराधिक आरोप नहीं लगाएंगे।

कंडुला (23) को पिछले साल जनवरी में सिएटल में सड़क पार करते हुए पुलिस के एक वाहन ने टक्कर मार दी थी जिससे उसकी मौत हो गयी थी। पुलिस की यह गाड़ी डेव चला रहा था। वह अत्यधिक मादक पदार्थ के सेवन के मामले की एक सूचना मिलने के बाद घटनास्थल की ओर 119 किलोमीटर प्रति घंटे से भी अधिक रफ्तार से गाड़ी चलाकर जा रहा था। कंडुला को कार ने इतनी जोर से टक्कर मारी कि वह 100 फुट दूर जाकर गिरी थी। सिएटल पुलिस विभाग द्वारा जारी ‘बॉडीकैम' फुटेज में अधिकारी डेनियर ऑडरर को इस भीषण दुर्घटना को लेकर हंसते हुए देखा गया और उसने इसमें डेव की गलती होने की बात खारिज कर दी थी।

खबर में बताया गया है कि किंग काउंटी की अभियोजक अटॉर्नी लीसा मैनियन ने कहा कि उन्हें लगता है कि उनके पास आपराधिक मामले को साबित करने के लिए सबूतों का अभाव है। बयान में यह भी कहा गया है कि अभियोजक कार्यालय ने यह भी पाया कि सिएटल के पुलिस अधिकारी ऑडरर द्वारा की गयी टिप्पणियां ‘‘घटिया और काफी चिंताजनक'' हैं। ऑडरर जनवरी में हुए इस हादसे में शामिल नहीं था

लेकिन उसे वीडियो में यह कहते हुए सुना गया, ‘‘लेकिन वह मर गयी है।'' वह फोन पर हंस रहा था। उसे वीडियो में यह कहते हुए सुना गया, ‘‘खैर वह 26 साल की थी। उसकी कोई खास अहमियत नहीं थी।'' हालांकि, ऑडरर को इन टिप्पणियों के लिए बर्खास्त किया जा सकता है। कंडुला नॉर्थईस्टर्न यूनिवर्सिटी के सिएटल कैम्पस में स्नातक की छात्रा थी। विश्वविद्यालय ने जनवरी 2023 में कहा था कि वे उसे मरणोपरांत डिग्री देंगे और यह डिग्री उसके परिवार को सौंपी जाएगी।