नक्सलियों ने की दो ग्रामीणों की हत्या, पुलिस के खबरी होने का थाआरोप; कैंप खोले जाने का कर रहे है विरोध

सुकमा
छत्तीसगढ़ के सुकमा-बीजापुर जिले की सीमा पर नक्सलियों ने पुलिस मुखबिरी के शक में 2 ग्रामीणों की हत्या कर दी। माओवादियों ने इन्हें जन अदालत लगाकर मार डाला, जबकि 2 ग्रामीणों को धमकी दी गई है कि वे पुलिस का साथ छोड़ दें, नहीं तो अंजाम मौत होगी। नक्सलियों की पामेड़ एरिया कमेटी ने प्रेस नोट जारी कर इसकी जानकारी दी है।

बताया जा रहा है कि 23 फरवरी की रात को नक्सलियों ने थाना चिंतागुफा क्षेत्रान्तर्गत दुल्लेड़ गांव के  रहने वाले दो आम नागरिकों की  हत्या कर दी थी। मृतकों में सोड़ी हूंगा व माड़वी नंदा ग्राम कहेर दुल्लेड़ गांव के निवासी है।

नक्सली शासन के जन कल्याणकारी योजनाओं और विकास की धारा को आम नागरिकों तक पहुंचना नहीं देना चाह रहे है। जिसके चलते ग्रामीणों में डर बनाने के लिए निर्दोष ग्रामीणों की हत्या कर रहे है।

नक्सली जनाधार को खत्म होता देख आम नागरिकों की हत्या कर क्षेत्र में दबाव बनाने का काम कर रहे हैं। पुलिस ने शव बरामद करने के साथ ही आगे की कार्रवाई शुरू कर दी है।