अनुपस्थिति की स्थिति में 6 मार्च को दूरस्थ जिले एवं राज्य के बाहर के अभ्यर्थी करवा सकेंगे सत्यापन

प्रदेश में व्यावसायिक शिक्षा को बढ़ावा देने के प्रयास

शाजापुर जिले में कौशल विकास के लिये राज्य स्तरीय उत्कृष्टता केन्द्र

चयनित आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियों की नियुक्ति संबंधी दस्तावेज सत्यापन 5 मार्च को होगा

अनुपस्थिति की स्थिति में 6 मार्च को दूरस्थ जिले एवं राज्य के बाहर के अभ्यर्थी करवा सकेंगे सत्यापन

भोपाल

प्रदेश में आत्म-निर्भर भारत योजना में कौशल विकास के लिये एक महत्वाकांक्षी पायलेट प्रोजेक्ट प्रारंभ किया गया है। इसके अंतर्गत हेण्डलूम, हेण्डीक्रॉफ्ट, माटीकला, सोलर एनर्जी, परिधान निर्माण, बाँस कला और अन्य क्षेत्रों में रोजगार मूलक प्रशिक्षण देने की व्यवस्था शुरू की गई है। इसके लिये मध्यप्रदेश राज्य मुक्त स्कूल शिक्षा बोर्ड द्वारा आत्म-निर्भर मध्यप्रदेश योजना प्रारंभ की गई है। पायलेट परियोजना के अंतर्गत शाजापुर जिले के शुजालपुर में राज्य स्तरीय कौशल विकास केन्द्र शुरू किया गया है।

नयी राष्ट्रीय शिक्षा नीति में प्रावधान किया गया है कि व्यावसायिक शिक्षा को इस तरह से केन्द्रित किया जाये, जिससे प्रत्येक बच्चा कम से कम एक व्यवसाय से जुड़े और कौशल सीखे। इस क्रम में राज्य स्तरीय कौशल विकास केन्द्र के 20 विद्यार्थियों को बेम्बू एण्ड केन डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट अगरतला से एक माह का प्रशिक्षण भी दिलाया गया है। इस केन्द्र के माध्यम से प्रदेश में कक्षा-6 से प्रारंभ होने वाले व्यावसायिक पाठ्यक्रमों के लिये एक रिसोर्स पर्सन उपलब्ध कराया जाने की व्यवस्था की गयी है।

रिक्त जिला परियोजना समन्वयक के लिये आवेदन

समग्र शिक्षा अभियान के अंतर्गत 13 जिलों में रिक्त जिला परियोजना समन्वयक के पद पर 7 मार्च तक आवेदन-पत्र आमंत्रित किये गये हैं। इसके लिये पात्र अभ्यर्थियों की लिखित परीक्षा 13 मार्च, 2024 को होगी। इसके लिये स्कूल शिक्षा विभाग के सहायक संचालक, प्राचार्य उच्चतर माध्यमिक विद्यालय, हाई स्कूल संवर्ग और व्याख्याता आवेदन कर सकेंगे। इस संबंध में विस्तृत जानकारी भोपाल स्थित राज्य शिक्षा केन्द्र और जिला शिक्षा केन्द्र से प्राप्त की जा सकती है।

 

चयनित आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियों की नियुक्ति संबंधी दस्तावेज सत्यापन 5 मार्च को होगा

अनुपस्थिति की स्थिति में 6 मार्च को दूरस्थ जिले एवं राज्य के बाहर के अभ्यर्थी करवा सकेंगे सत्यापन

 

आयुष विभाग अंतर्गत आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारी के लिए चयनित अभ्यर्थियों की नियुक्ति के लिये सत्यापन तिथियों में संशोधन किया गया है। अभ्यर्थियों के लिए सत्यापन तिथि 2 मार्च को संशोधित कर 5 मार्च कर दी गई है। अभ्यर्थियों को अब 5 मार्च को अपने दस्तावेजों का सत्यापन कराना होगा।

आयुक्त आयुष श्रीमती सोनाली पोंक्षे वायंगणकर ने बताया कि आयुष विभाग अंतर्गत आयुर्वेद चिकित्सा अधिकारियों की नियुक्ति के संबंध में प्रावीण्य सूची अनुसार चयनित अभ्यर्थियों के दस्तावेजों का सत्यापन अब 5 मार्च को किया जाएगा। इसके पहले अभ्यर्थियों को 2 मार्च को दस्तावेज सत्यापन प्रक्रिया के लिए सूचित किया गया था, जिसमें संशोधन किया गया है। अभ्यर्थियों को सत्यापित रजिस्ट्रेशन का सत्यापन, प्रमाण पत्रों की जांच, चरित्र सत्यापन संबंधी शपथ पत्र, जाति प्रमाण पत्र का सत्यापन, मूल निवासी प्रमाण पत्र एवं समस्त शैक्षणिक दस्तावेजों/अभिलेखों सहित समस्त दस्तावेजों का सत्यापन 5 मार्च को कराना होगा।

प्रदेश के दूर-दराज जिलों एवं राज्य के बाहर के ऐसे अभ्यर्थी, जो 5 मार्च को सत्यापन के लिए उपस्थित नहीं हो सकेंगे, उन्हें 6 मार्च को अनिवार्य रूप से अपने समस्त दस्तावेजों का सत्यापन कराना होगा।

उल्लेखनीय है कि सत्यापन के लिए पूर्व से निर्धारित स्थान एवं समय में कोई परिर्वतन नही किया गया है। अभ्यर्थियों को आयुष विभाग की वेबसाईट पर प्रदर्शित चेक लिस्ट अनुसार मूल दस्तावेजों सहित पंडित खुशीलाल शर्मा शासकीय स्वशासी आयुर्वेद महाविद्यालय संस्थान एवं चिकित्सालय, एमएसीटी के पीछे, साइन्स हिल्स, कलियासोत डेम के पास से नेहरू नगर, कोलार बायपास रोड, भोपाल में दस्तावेज सत्यापन प्रक्रिया के लिए 5 मार्च को प्रातः 10 बजे उपस्थित होना होगा।

अभ्यर्थी सत्यापन संबंधी किसी भी सहायता के लिये आयुष संचालनालय के औषधि निरीक्षक डॉ. हिम्मत सिंह डावर से हेल्पडेस्क नंबर 9993141826 पर संपर्क कर सकते हैं। समस्त विस्तृत सूचना विभागीय वेबसाईट www.ayush.mp.gov.in पर उपलब्ध है। अभ्यर्थी नियुक्ति एवं च्वाईस फिलिंग की अद्यतन जानकारी प्राप्त करने के लिये समय-समय पर विभागीय वेबसाइट में देखते रहें।