कौशल विकास एवं रोजगार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) टेटवाल ने की समीक्षा

कृषि मेले से होंगे किसान लाभान्वित : कृषि मंत्री कंषाना

अतिशेष प्रशिक्षण अधिकारियों को अन्य व्यवसायों में समायोजित करने के निर्देश

कौशल विकास एवं रोजगार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) टेटवाल ने की समीक्षा

तीन दिवसीय कृषि मेले का किया शुभारंभ

भोपाल

किसान-कल्याण एवं कृषि विकास मंत्री ऐदल सिंह कंषाना ने कहा है कि कृषि मेलों के आयोजन से किसान लाभान्वित होंगे। मेलों में किसानों को खेती-किसानी की अत्याधुनिक तकनीकों से अवगत होने का अवसर भी मिलता है और वे लाभान्वित भी होते हैं। कृषि मंत्री कंषाना भोपाल के बिट्टन मार्केट में 3 दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय कृषि उद्यानिकी, डेयरी एवं अभियांत्रिकी मेले का शुभारंभ कर संबोधित कर रहे थे।

कृषि मंत्री कंषाना ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में किसानों को लाभान्वित करने के लिये निरंतर नित नये कार्य किये जा रहे हैं। इस प्रकार के उच्च स्तरीय मेलों के आयोजन से किसानों को अत्याधुनिक तकनीकों से रूबरू होने का अवसर मिलता है। खेती-किसानी की बेहतरी के लिये नवीनतम जानकारियाँ प्राप्त होती हैं। किसानों को ज्यादा से ज्यादा आर्थिक लाभ दिलाने में मदद भी मिलती है। कृषि मंत्री कंषाना ने मेले में खेती-किसानी के लिये विकसित और निर्मित किये गये आधुनिक उपकरणों का अवलोकन किया।

कृषि मंत्री कंषाना ने मेले में कहा कि हमें जैविक और प्राकृतिक खेती की ओर आगे बढ़ना है। उन्होंने किसान भाईयों से आव्हान किया कि वे अपने खेतों में नैनो यूरिया का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग करें। नैनो यूरिया के प्रयोग से खाद्य उत्पादों की पौष्टिकता बरकरार रहेगी। इससे धरती की उर्वरा शक्ति भी बनी रहेगी।

कृषि मंत्री कंषाना ने मेले के आयोजन के लिये सभी संबद्ध संस्थानों को शुभकामना देते हुए कहा कि सभी मिलकर अन्नदाता के सशक्तिकरण के लिये कार्य करें। इससे समाज, प्रदेश और देश में समृद्धि आयेगी।

अतिशेष प्रशिक्षण अधिकारियों को अन्य व्यवसायों में समायोजित करने के निर्देश

कौशल विकास एवं रोजगार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) टेटवाल ने की समीक्षा

भोपाल

कौशल विकास एवं रोजगार संचालनालय में पदस्थ अतिशेष एवं बंद हुए व्यवसायों के प्रशिक्षण अधिकारियों को उनकी योग्यता के आधार पर अन्य व्यवसायों में समायोजन का अवसर प्रदान करने के लिये कार्य-योजना बनायें। कौशल विकास एवं रोजगार राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) गौतम टेटवाल ने यह निर्देश विभागीय योजनाओं की समीक्षा के दौरान दिये।

टेटवाल ने कहा कि सभी आईटीआई में प्रशिक्षण की गुणवत्ता सुधार के लिये जरूरी कदम उठायें। आकांक्षी जिलों में संचालित आईटीआई के उन्नयन के लिये विस्तृत कार्य-योजना बनाई जाये। विकासखण्डों में संचालित आईटीआई में जरूरी उपकरण एवं सुविधाएँ उपलब्ध करायें। आईटीआई में अध्ययनरत प्रशिक्षणार्थियों को उत्कृष्ट आईटीआई में भ्रमण करवायें। शासकीय आईटीआई में उद्योगों के माध्यम से ऑन द जॉब ट्रेनिंग को बढ़ावा देने के लिये कार्य-योजना बनायें।

टेटवाल ने कहा कि संत शिरोमणि रविदास ग्लोबल स्किल पार्क भोपाल में संचालित पाठ्यक्रम से अवगत कराने आईटीआई प्रशिक्षणार्थियों को यहाँ 4-5 दिनों के लिये प्रशिक्षण दिया जाये। नवीन स्वीकृत आईटीआई के भूमि का चयन एवं भवन निर्माण की कार्यवाही शुरू करें। रिक्त उच्च पदों के प्रभार देने की कार्यवाही भी करें।

समय-सीमा में कार्य नहीं होने पर होगी कार्रवाई

राज्य मंत्री टेटवाल ने कहा कि निर्धारित समय-सीमा में कार्य नहीं होने पर संबंधित अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई की जायेगी। उन्होंने आईटीआई एवं अन्य कार्यालयों में 3 से अधिक वर्षों तक एक ही स्थान पर पदस्थ कर्मचारियों को बदलने का प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश भी दिये। आईटीआई के निरीक्षण का रोस्टर बनायें। टेटवाल ने ग्लोबल स्किल पार्क का निर्माण कार्य जल्द पूरा कराने के निर्देश दिये। साथ ही यहाँ की भर्ती प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के निर्देश भी दिये। बैठक में परियोजना संचालक गौतम सिंह और संचालक कौशल विकास एवं रोजगार सोमेश मिश्रा एवं अन्य अधिकारी उपस्थित थे।