पैनल डिस्कशन में फिल्म, धार्मिक एवं ऐतिहासिक विरासत, पर्यटन हेतु विचार-विमर्श कर सुझाव आमंत्रित

मध्यप्रदेश में धार्मिक, हैरिटेज, फिल्म, एडवेंचर पर्यटन के क्षेत्र में अनंत संभावनाएं : संस्कृति राज्यमंत्री लोधी

पर्यटन क्षेत्र के लिये लगभग 100 करोड़ के लेटर ऑफ अवार्ड का वितरण

पैनल डिस्कशन में फिल्म, धार्मिक एवं ऐतिहासिक विरासत, पर्यटन हेतु विचार-विमर्श कर सुझाव आमंत्रित

भोपाल

उज्जैन में रीजनल इण्डस्ट्री कॉनक्लेव के दूसरे दिन शनिवार को मध्यप्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र में संभावनाएं एवं निजी निवेश को आकर्षित करने पैनल डिस्कशन सत्र हुआ। संस्कृति, पर्यटन, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मेन्द्र सिंह लोधी ने लगभग 100 करोड़ से अधिक के लेटर ऑफ अवार्ड का वितरण किया।

सत्र को सम्बोधित करते हुए राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मेन्द्र सिंह लोधी ने कहा कि मध्यप्रदेश देश के मध्य में स्थित होने से भारत का हृदय कहा जाता है। यह क्षेत्रफल की दृष्टि से देश का दूसरा बड़ा राज्य है। मध्यप्रदेश में ऐतिहासिक, भौगोलिक, प्राकृतिक सुन्दरता के साथ ही ऐतिहासिक विरासत की भरमार है। यहां के लोग संस्कृति सम्पन्न हैं। भोजन एवं संस्कृति में विभिन्नता पर्यटन के क्षेत्र में अपार संभावनाएं बनाती हैं। प्रदेश में धार्मिक, हैरिटेज, फिल्म, एडवेंचर क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। बांधवगढ़ नेशनल पार्क में वन्यजीव के साथ बाघ देखने को मिलते हैं, खजुराहो मन्दिर की मूर्तियों में वास्तविक भारत को खोज सकते हैं। साथ ही समृद्ध प्राकृतिक विविधता, पशु-पक्षी, पेड़-पौधे यहां की प्राकृतिक सुन्दरता को और अधिक बढ़ाते हैं। खजुराहो, सांची और भीमबैटका को यूनेस्को द्वारा विश्व विरासत स्थल घोषित किया गया है। उज्जैन में महाकाल लोक कॉरिडोर बनाया गया है। महाकाल लोक की तर्ज पर ही ओरछा में श्रीराम राजालोक, सलकनपुर में देवीलोक, मंदसौर में पशुपतिनाथ लोक, सागर में संत रविदास लोक, नीमच में भादवामाता लोक, जामसांवली में हनुमान लोक, बड़वानी में नागनवाड़ी लोक और जानापाव में परशुराम लोक का निर्माण धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से किया जा रहा है।

राज्यमंत्री लोधी ने बताया कि पर्यटन क्षेत्र में निजी निवेश को बढ़ावा देने के लिये प्रदेश की पर्यटन नीति में विशेष प्रावधान किये गये हैं। निवेशकों की सहायता के लिये मध्यप्रदेश टूरिज्म बोर्ड को नोडल एजेन्सी बनाया गया है। लगभग एक हजार हेक्टेयर से अधिक का लैंड बैंक बनाया गया है, जिसे ऑनलाइन टेण्डरिंग से निवेशकों को आवंटित किया जा रहा है। हैरिटेज होटल्स के लिये हैरिटेज परिसम्पत्तियां, किले, महल भी 90 वर्ष की लीज पर आवंटित करने की योजना है। विभाग द्वारा 298 हेक्टेयर भूमि में पर्यटन परियोजना की स्थापना हेतु 44 निवेशकों द्वारा अनुबंध किया गया है, जिसमें लगभग 711 करोड़ के निवेश प्रस्ताव मिले हैं। बारह हैरिटेज परिसम्पत्तियों को हैरिटेज होटल के रूप में विकसित करने लीज पर दिया गया है, जिसमें 565 करोड़ निवेश मिला है। प्रदेश के विभिन्न क्षेत्रों में 12 भूमियों पर अल्ट्रा मेगा प्रोजेक्ट के लिये 100 करोड़ से अधिक निवेश हेतु आवेदन आमंत्रित किये जा रहे हैं।

लोधी ने बताया कि फिल्म क्षेत्र में प्रचार-प्रसार एवं फिल्मांकन को बढ़ावा देने के लिये फिल्म पर्यटन नीति लागू की गई है। फिल्म निर्माताओं के लिये फेसिलिटेशन सेल का गठन किया गया है। फिल्म निर्माताओं को वित्तीय एवं गैर-वित्तीय सुविधाएं जैसे- फीचर फिल्म, टीवी सीरियल, वेब सीरीज शो, टीवी सीरियल एवं डॉक्यूमेंट्री शूटिंग, फिल्म इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट हेतु अनुदान, राज्य के स्थानीय कलाकारों को अतिरिक्त वित्तीय अनुदान दिया जा रहा है। प्रदेश को वर्ष 2020 में ‘मोस्ट फिल्म फ्रेंडली स्टेट’ अवार्ड भी मिला है। प्रदेश में 350 से अधिक फिल्मों की शूटिंग हो चुकी है।

राज्यमंत्री लोधी ने बताया कि पर्यटन के क्षेत्र में रोजगार एवं स्वरोजगार हेतु 10 हजार महिलाओं को विभिन्न कौशल उन्नयन कार्यक्रमों के माध्यम से प्रशिक्षित करने की योजना है। ग्रामीण पर्यटन परियोजना अन्तर्गत 100 ग्रामों/स्थलों में काम करने का चयन किया गया है, जिसमें 50 सामान्य एवं 50 आदिवासी बाहुल्य गांवों में कार्य किया जा रहा है। प्रमुख तीर्थस्थलों जैसे ओंकारेश्वर एवं अमरकंटक का विकास पर्यटन मंत्रालय भारत सरकार की ‘प्रसाद’ योजना अन्तर्गत किया जा रहा है।

सत्र में बताया गया कि साहसिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये ट्रेकिंग, साइकलिंग, हैरिटेज वॉक, बाईक सफारी से सम्बन्धित ‘राइडर्स इन द वाइल्ड’, ‘फोर्सिथ ट्रेल रन’, ‘पंचमढ़ी ट्रेकिंग, ‘राइड विथ प्राइड’, टूर ऑफ मोगली लैंड, सतपुड़ा साइकलिंग, कार रैली गतिविधियां आयोजित की गई हैं। स्काई डाइविंग, ओरछा एवं हनुवंतिया में हेलीकॉप्टर जॉय राइड का अनुभव पर्यटकों को कराया गया है। जल पर्यटन के लिये 22 जलक्षेत्रों में निजी निवेशकों को मोटर बोट, हाउस बोट, क्रूज, पैरासेलिंग, स्पीड बोट एवं वाटर स्पोर्ट्स हेतु लायसेंस जारी किये जा रहे हैं। अब तक 32 निवेशकों को लायसेंस दिये जा चुके हैं। शासन द्वारा प्रदेश के पर्यटन क्षेत्र को बढ़ावा देने हेतु प्रचार साहित्य, रेडियो, सिनेमा, सोशल मीडिया इत्यादि माध्यम से व्यापक प्रचार-प्रसार किया जा रहा है, ताकि राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मध्यप्रदेश पर्यटन में अग्रणी हो। पर्यटन परियोजनाओं के विकास के लिये निजी निवेशकों के लिये नियमों को शिथिल किया गया है।

पर्यटन क्षेत्र में संभावनाएं एवं चुनौतियां विषय पर पैनल डिस्कशन आयोजित

धार्मिक पर्यटन एवं फिल्म पर्यटन सत्र के दौरान प्रदेश में पर्यटन के क्षेत्र में संभावनाएं, चुनौतियां विषय पर पैनल डिस्कशन हुआ। इस सत्र में सूची त्रिवेदी पार्टनर ई एण्ड व्हाय, शेखरबाबू बचिनीपल्ली चेप्टर चेअरमेन एटीओएआई, सुमित सूरी सेक्रेटरी ओम्नी होटल्स, पंकज फुलवानी एमडी रेनी पॉवर द्वारा सहभागिता की गई। इन्होंने धार्मिक, हैरिटेज, फिल्म एवं एडवेंचर पर्यटन में अनुभव साझा करते हुए पर्यटन को बढ़ावा देने के लिये सुझाव दिये।

लेटर ऑफ अवार्ड वितरित

सत्र में संस्कृति, पर्यटन, धार्मिक न्यास एवं धर्मस्व राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) धर्मेन्द्र सिंह लोधी द्वारा मंच से ही पर्यटन क्षेत्र में निवेश करने वाले निविदाकारों को लेटर ऑफ अवार्ड वितरित किये गये, जिसमें हुजैफी अबू सुल्तान खान, प्रोप्राइटर मेसर्स पर्ल साइन कम्पलीट साल्यूशन, छिंदवाड़ा (2.50 करोड़), मनोज वर्मा ग्राम तिलीमाफी, जिला सागर (10 करोड़), राघवेंद्र सिंह, प्रोप्राइटर मेसर्स सर्वोदय कंस्ट्रक्शन कंपनी, अशोक नगर (5 करोड़), प्रतीक सिंह, संचालक मेसर्स सिद्धिदात्री मिनरल्स प्रा.लि., ग्राम परसिली, जिला सीधी (3 करोड़), गजेंद्र सिंह राठौर, एमडी मेसर्स पेंच जनरल रिसोर्ट प्रा.लि. सीधी एवं श्योपुर (15 करोड़), विनीत जैन, प्रोप्राइटर मेसर्स इंटीग्रेटेड साल्यूशन, इन्दौर (4 करोड़), प्रशांत दरियानी, भोपाल (25 करोड़), संजीव कुमार अमीन, भोपाल (2 करोड़), राहुल गुप्ता भडिंडा, मंदसौर (2 करोड़), पंकज फुलवानी, प्रोप्राइटर मेसर्स रेनी पॉवर, भोपाल (2 करोड़), ओमप्रकाश बंसल, प्रोप्राइटर मेसर्स सूरे इलेक्ट्रीकल्स, भोपाल (10 करोड़), प्रमोद शर्मा, पार्टनर मेसर्स प्रमोद शर्मा कॉन्ट्रेक्टर, इन्दौर (15 करोड़) एवं राजीव मिश्रा संचालक मेसर्स मारवाड़ फोर्ट एण्ड पैलेसेज, जयपुर (10 करोड़) को लेटर ऑफ अवार्ड दिये गये।

सत्र में मप्र टूरिज्म डेवलपमेंट कॉर्पोरेशन के मैनेजिंग डायरेक्टर इलैय्या राजा टी. ने निवेशकों एवं अतिथियों का स्वागत किया एवं पर्यटन विभाग की कार्य योजनाओं के बारे में बताया। आभार प्रदर्शन एडिशनल मैनेजिंग डायरेक्टर विवेक श्रोत्रिय ने किया।