कमलनाथ के गढ़ में सेंध, कांग्रेस के सात पार्षद भाजपा में हुए शामिल, लगा बड़ा झटका, सियासत तेज

छिंदवाड़ा
जिले में एक बार फिर सियासत गरमा गई। ताजा घटनाक्रम में कांग्रेस के सात पार्षदों ने भोपाल जाकर भाजपा की सदस्यता ग्रहण की है। पार्षदों ने प्रदेश के शहरी विकास मंत्री कैलाश विजयवर्गीय से मुलाकात की। कांग्रेस से भाजपा में जाने वाले पार्षदों में चंदू ठाकरे, भूरा भावरकर, जगदीश ठाकरे, लीना तिरगाम, दीपा माहोरे, बबलू विश्वकर्मा व एक अन्य शामिल है।

इंटरनेट मीडिया पर चल रही तस्वीरों में पार्षदों के साथ सौंसर के पूर्व विधायक नानाभाऊ मोहोड़ भी दिखाई दे रहें हैं। उल्लेखनीय है कि छिंदवाड़ा पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का गढ़ कहा जाता है लेकिन पिछले कुछ दिनों में कांग्रेस के कई नेता भाजपा का दामन थाम चुके हैं। जिसमें पांढुर्णा के पार्षद और कांग्रेस नेता अज्जू ठाकुर, चौरई के नेता बंटी पटेल और सिंगोड़ी के सरपंच शामिल हैं। गौरतलब है कि बीते दिनों छिंदवाड़ा आए मुख्यमंत्री डा. मोहन यादव ने कहा था-इन दिनों छिंदवाड़ा में कई लोगों का मन डावांडोल है, आज नहीं तो कल हमारे पास आ जाएंगे। सोमवार को नगर निगम छिंदवाड़ा के सात पार्षदों मन भाजपा में जाने का हो गया और वे भाजपाई बनने के लिए भोपाल जा पहुंचे।

नगर निगम में अल्पमत में आ जाएगी कांग्रेस
छिंदवाड़ा नगर निगम में कुल 48 पार्षद हैं। सात पार्षदों के पाला बदलने के बाद नगर निगम का समीकरण गड़बड़ा गया है। नगर निगम में 26 पार्षद कांग्रेस के जीते थे, वहीं भाजपा के 19 पार्षद जीते, वहीं तीन पार्षद निर्दलीय जीते, जिसमें से दो कांग्रेस और एक भाजपा को समर्थन कर रहे थे, 26 में से 7 पार्षद कम होने से अब कांग्रेस के पार्षदों की संख्या 21 रह जाएगी।

बताया जा रहा है कि ये पार्षद बीते कई दिनों से पाला बदलने की फिराक में थे, जिसके बाद उन्होंने भाजपा के नेताओं से मुलाकात की और इस के बाद ये सारा घटनाक्रम हुआ। बताया जा रहा है कि पार्षद निगम में फंड की कमी के चलते विकास कार्य नहीं करवा पा रहे थे, जिसके बाद इन्हें रोकने के प्रयास कांग्रेस खेमे में कई दिनों से किए जा रहे थे।