रायपुर पुलिस कर रही नेक इंसानों को प्रोत्साहित, छत्तीसगढ़ में रोड एक्सीडेंट में घायलों की जान बचाने पर होगा सम्मान

रायपुर.

छत्तीसगढ़ में सड़क दुर्घटना में घायलों की मदद कर जान बचाने वाले नेक इंसानों को पुलिस ने सम्मानित किया है। साथ ही शहर में गुड सेमेरिटन के फोटो युक्त होर्डिंग लगाये जायेंगे। घायलों की जान बचाने वाले छह गुड सेमेरिटन (नेक इंसान) को रायपुर एसएसपी ने सम्मानित किया है। उन्होंने भविष्य में जरूरत पड़ने पर फिर से पुण्य काम करने और अपने आसपास के लोगों को जागरूक करने की बात कही है।

रायपुर में 14 मई को सड़क दुर्घटनाओं में गोल्डन आवर्स में घायलों की मदद करने वाले छह नेक इंसान को एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने सम्मानित किया। उन्होंने बताया कि भारत देश में हर साल सड़क दुर्घटना में लगभग डेढ़ लाख लोगों की मृत्यु होती है।  घायलों को सही समय में इलाज नहीं मिल पाने से मृत्यु हो जाती है। सड़क दुर्घटना के दौरान 60 मिनट का समय गोल्डन आवर कहलाता है। एक घंटा के भीतर अगर अस्पताल पहुंच जाता है, तो बचने चांस रहता है। सड़क दुर्घटनों में लोगों के बा- बार पेशी जाना पड़ेगा। पुलिस ने बार-बार पूछताछ के लिए आना पडे़गा। परेशानी होगी सोचकर मोबाइल फोन से विडियों फोटो बना लिया जाता है किन्तु घायल की जान बचाने के लिए कोई उपाय नहीं किया जाता। घायल व्यक्ति त्वरित उपचार के अभाव में दम तोड़ देता है। दुर्घटना के समय भाग खड़ा न होने और घायल की मदद करने वाले लोगों को पुलिस सम्मानित करेगी।

रायपुर के प्रदीप साहू, सूर्यप्रताप सिंह, भगवानू नायक, नरेन्द्र जांगड़े, हरिओम शुक्ला और प्रांजल जै  ने सड़क दुर्घटना में घायल की मदद की थी। दोनों ने घायल को इलाज के लिए अस्पताल तक पहुंचाया था। रायपुर जिले में घटित विभिन्न सड़क दुर्घटनाओं में घायलों की मदद करने वाले गुड सेमेरिटन को एसएसपी संतोष कुमार सिंह ने मोंमेंटो और प्रशस्ति पत्र देकर सम्मानित किया है। इनका फोटोयुक्त होर्डिंग शहर के विभिन्न स्थानों पर लगाया जाएगा।

You may have missed